भारत ज‍िंदाबाद के नारे लगे, तो टेंशन में आया पाक‍िस्‍तान, PoK के ल‍िए जारी क‍िया फंड

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में चार दिनों से चल रहा हिंसक विरोध प्रदर्शन खत्म हो गया है. पाकिस्तान सरकार द्वारा विरोध प्रदर्शनों को रोकने के लिए 23 अरब रुपये का फंड जारी करने के बाद पीओके में हिंसा रुकने लगी है. हालाँकि, चार दिनों की हिंसा में तीन लोगों की जान चली गई और 100 से अधिक घायल हो गए।

यूकेपीएनपी ने सुझाव दिया

आपको बता दें कि ब्रिटेन स्थित यूनाइटेड कश्मीर पीपुल्स नेशनल पार्टी (यूकेपीएनपी) ने कहा है कि वह पीओके के लोगों की शिकायतों पर गौर करेगी। यूकेपीएनपी का कहना है कि पाकिस्तान द्वारा घोषित फंड से लोगों को सस्ती बिजली और गेहूं मुहैया कराया जा सकता है। लेकिन पीओके के लोग वर्षों से मानवाधिकार, अन्याय, असमानता और प्राकृतिक संसाधनों का शोषण झेल रहे हैं। पाकिस्तान को इन सभी कमियों को दूर करने की जरूरत है, जिसकी मदद से पीओके में शांति बहाल की जा सके.

अवामी एक्शन कमेटी ने दी सफाई

आपको बता दें कि पाकिस्तान का आरोप है कि अवामी एक्शन कमेटी ने जानबूझकर विरोध प्रदर्शन को हिंसक बनाया. हालाँकि, अवामी एक्शन कमेटी का कहना है कि उसने शुक्रवार को शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन शुरू किया। लेकिन कुछ बाहरी लोगों ने उनके विरोध में घुसकर हिंसा शुरू कर दी, ताकि पार्टी को बदनाम किया जा सके. इस हिंसा में एक पुलिसकर्मी समेत 3 लोगों की मौत हो गई और कई लोग घायल हो गए.

मांग पूरी की

गौरतलब है कि पाकिस्तान में महंगाई दर 40 फीसदी से ज्यादा है. ऐसे में पीओके के लोग मंगला बांध से पैदा होने वाली बिजली को टैक्स फ्री और गेहूं पर सब्सिडी की मांग कर रहे थे. पाकिस्तान सरकार ने दोनों मांगों को पूरा करने के लिए 23 अरब रुपये का फंड जारी किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *