मोदी का दमदार संबोधन: मॉस्को में प्रवासी भारतीयों को दिए गए उनके भाषण के मुख्य अंश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को मॉस्को में प्रवासी भारतीयों को संबोधित किया, जिसमें उन्होंने पिछले एक दशक में भारत में आए उल्लेखनीय बदलावों पर प्रकाश डाला। उन्होंने देश के तेजी से हो रहे विकास पर जोर दिया, जिसने वैश्विक समुदाय को चकित कर दिया है। उन्होंने इस प्रगति का श्रेय भारत के 140 करोड़ नागरिकों की सामूहिक शक्ति को दिया, जो ‘विकसित भारत’ के सपने को साकार करने के लिए समर्पित हैं।

मोदी ने कहा, “आज का भारत आत्मविश्वास से भरा हुआ है, जो 2014 से पहले के दौर से बिल्कुल अलग है और यह आत्मविश्वास हमारी सबसे बड़ी संपत्ति है।”

उन्होंने समुदाय के समर्थन के महत्व पर जोर देते हुए कहा, “आपके आशीर्वाद से हम सबसे बड़े लक्ष्य भी हासिल कर सकते हैं। भारत आज जो भी लक्ष्य निर्धारित करता है, उसे हासिल कर लेता है।”

मोदी ने चुनौतियों पर काबू पाने के लिए अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि की और भविष्यवाणी की कि भारत आने वाले वर्षों में वैश्विक विकास के एक नए युग का नेतृत्व करेगा। उन्होंने रूस में दो नए वाणिज्य दूतावासों की स्थापना की भी घोषणा की, जो भारत-रूस संबंधों की मजबूती को रेखांकित करता है। उन्होंने प्रवासी भारतीयों को प्रोत्साहित करते हुए उन्हें भारत का ब्रांड एंबेसडर बताया और देश की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए अपने तीसरे कार्यकाल में तीन गुना अधिक मेहनत करने का संकल्प लिया।

अपने हालिया पुनर्निर्वाचन पर विचार करते हुए, मोदी ने कहा, “एक महीने पहले, मैंने लगातार तीसरे कार्यकाल के लिए शपथ ली, हमारे देश के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए तीन गुना प्रयास और गति के साथ काम करने का संकल्प लिया।”

उन्होंने सरकार के महत्वाकांक्षी लक्ष्यों को रेखांकित किया, जिसमें भारत को दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाना, वंचितों के लिए तीन करोड़ घर बनाना और तीन करोड़ गरीब ग्रामीण महिलाओं को ‘लखपति दीदी’ बनाना शामिल है। उनके भाषण के दौरान दर्शकों ने ‘मोदी, मोदी’ और ‘मोदी है तो मुमकिन है’ के उत्साही नारे लगाए।

भारत की उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुए मोदी ने कहा, “भारत ने चंद्रमा के पहले अज्ञात क्षेत्र में चंद्रयान भेजने वाला पहला देश बना और विश्वसनीय डिजिटल लेन-देन के लिए वैश्विक मानक स्थापित किया।” अपने संबोधन के समापन पर मोदी ने कहा, “पिछले 10 वर्षों का विकास केवल एक पूर्वावलोकन था; हम अगले दशक में और भी अधिक तीव्र विकास देखेंगे।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *