मानव तस्करी में पाकिस्तान पहुंचे भारतीय मां-बेटे एक साल बाद रिहा

पाकिस्तान ने एक भारतीय महिला वहीदा बेगम और उसके नाबालिग बेटे फैज खान को पंजाब में वाघा सीमा पर भारतीय बलों को सौंप दिया है। उन्हें 2023 में अवैध रूप से पाकिस्तान में प्रवेश करने के लिए एक साल से अधिक समय तक जेल में रहना पड़ा था। गुरुवार को एक पाकिस्तानी अधिकारी के अनुसार, दोनों मानव तस्करी के शिकार थे और उन्हें बलूचिस्तान प्रांत के क्वेटा की जेल से रिहा किया गया था। असम के नागांव जिले की वहीदा को 2023 में चमन सीमा के रास्ते अफगानिस्तान से अवैध रूप से पाकिस्तान में प्रवेश करते समय गिरफ्तार किया गया था।

उसने पाकिस्तानी अधिकारियों को बताया कि एक भारतीय ट्रैवल एजेंट ने उसे धोखा दिया था, जिससे वह पाकिस्तान पहुंच गई थी। उसने कहा, ‘2022 में मेरे पति की मृत्यु के बाद, मैंने अपने बेटे को कनाडा ले जाने का फैसला किया। मैंने अपनी संपत्ति बेच दी और एक भारतीय एजेंट को मोटी रकम दी।’ एजेंट ने उन्हें कनाडा ले जाने का वादा करके दुबई और अफगानिस्तान तक साथ दिया। हालांकि, अफगानिस्तान में वह उनके पैसे और पासपोर्ट लेकर फरार हो गया। भारत लौटने के लिए वे चमन सीमा के रास्ते पाकिस्तान में घुस गए, जहां उन्हें विदेशी अधिनियम के तहत गिरफ्तार कर लिया गया।

कई महीनों तक काउंसलर एक्सेस और नागरिकता की पुष्टि के बाद, हमारी रिहाई की प्रक्रिया शुरू हुई,’ उन्होंने बताया कि उनके पाकिस्तानी वकील ने भारत में उनके परिवार को उनकी स्थिति के बारे में बताया।इसके बाद उनके रिश्तेदारों ने नई दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग और इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग से सहायता मांगी।भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों द्वारा इस्लामाबाद में आंतरिक मंत्रालय के समक्ष अपना मामला उठाए जाने के बाद, वहीदा और उनके बेटे को रिहा कर दिया गया और वाघा सीमा पर बीएसएफ को सौंप दिया गया।

इसके अलावा, दो अन्य भारतीय नागरिक शब्बीर अहमद और सूरज पाल को भी बुधवार को बीएसएफ को सौंप दिया गया।अहमद को कराची की मलीर जेल से रिहा किया गया, जबकि पाल को लाहौर की कोट लखपत जेल से उनकी सजा पूरी करने के बाद रिहा किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *