B-17 ने दूसरे विश्व युद्ध में बरपाया था कहर… संकट में फंसी Boeing के सबसे खतरनाक Military Aircrafts

एयरोस्पेस इंडस्ट्री की बात करें तो अमेरिकी कंपनी बोइंग टॉप पर है। इस समय वित्तीय संकट से जूझ रही कंपनी ने दुनिया के कई प्रतिष्ठित सैन्य विमान बनाए हैं। इतिहास की दिशा बदलने वाले बमवर्षकों से लेकर उन्नत गश्ती प्लेटफार्मों तक, विमानन में कंपनी के योगदान को कम करके नहीं आंका जा सकता है। इस रिपोर्ट में जानिए बोइंग के 5 सबसे मशहूर सैन्य विमानों के बारे में जो इतिहास के सबसे खतरनाक विमानों की लिस्ट में शामिल हैं।

बोइंग बी-17 फ्लाइंग फोर्ट्रेस

बोइंग का बी-17 फ्लाइंग फोर्ट्रेस कंपनी द्वारा निर्मित सबसे प्रसिद्ध सैन्य विमान कहा जाता है। यह द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान सबसे प्रभावी बमवर्षकों में से एक था, जिसने मित्र देशों के हवाई अभियानों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इसे पहली बार 1930 के दशक के अंत में पेश किया गया था। समय के साथ इसमें कई बदलाव आए हैं। प्रारंभ में इसे उच्च ऊंचाई पर बमबारी के लिए डिज़ाइन किया गया था। यह अपनी मारक क्षमता और दुश्मन की गोलाबारी झेलने की क्षमता के लिए भी जाना जाता है।

बोइंग बी-29 सुपरफ़ोर्ट्रेस

यह सैन्य विमान द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अमेरिकी इंजीनियरिंग का एक बेहतरीन उदाहरण है। 1944 में पेश किए गए इस विमान को लंबी दूरी तक भारी बम पहुंचाने के लिए डिजाइन किया गया था। यह एक दबावयुक्त केबिन और एक रिमोट कंट्रोल गन बुर्ज से भी सुसज्जित था। हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम गिराने में इसका कूटनीतिक महत्व प्रदर्शित हुआ। इसने चीन-बर्मा-भारत क्षेत्र में सटीक जापानी लक्ष्यों को भी प्रभावी ढंग से लक्षित और बमबारी की।

बोइंग एएच-64 अपाचे

 एएच-64 अपाचे दुनिया के सबसे खतरनाक हेलीकॉप्टरों में से एक है। 1980 के दशक में सेवा में आए इस हेलीकॉप्टर ने 1991 में ऑपरेशन डेजर्ट स्टॉर्म में अपनी क्षमता साबित की। समय के साथ इस हेलीकॉप्टर में कई सुधार किये गये। इसका सेंसर सिस्टम मजबूत था, इसकी हथियार प्रणाली उन्नत थी। इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह किसी भी तरह की युद्ध स्थिति में अपना मिशन पूरा कर दुश्मन को परास्त कर सकती है। दुनिया की कई सेनाएं इसका इस्तेमाल करती हैं.

बोइंग सीएच-47 चिनूक

बोइंग का सीएच-47 चिनूक एक प्रतिष्ठित जुड़वां इंजन वाला हेलीकॉप्टर है। इसका उपयोग 1960 के दशक से सैन्य और नागरिक अभियानों में किया जाता रहा है। अपनी बहुमुखी प्रतिभा और शक्ति के लिए जाना जाने वाला यह हेलीकॉप्टर परिवहन और भारी लिफ्ट संचालन में अच्छा प्रदर्शन करता है। इसका रोटर डिज़ाइन इसे बहुत अधिक वजन उठाने में मदद करता है। इसलिए, इसका उपयोग विभिन्न परिस्थितियों में सैनिकों सहित माल और अन्य सैन्य उपकरणों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने के लिए किया जाता रहा है।

बोइंग बी-52 स्ट्रैटोफोर्ट्रेस

1950 के दशक में पेश किया गया बोइंग का बी-52 स्ट्रैटोफोर्ट्रेस विमान लंबे समय से अमेरिकी वायु सेना का हिस्सा रहा है। इसने जल्द ही खुद को अमेरिका के रणनीतिक बमवर्षक बेड़े में स्थापित कर लिया। इसकी लंबी दूरी, बम पेलोड क्षमता और उच्च ऊंचाई पर संचालित करने की क्षमता ने इसे शीत युद्ध के दौरान बहुत महत्वपूर्ण बना दिया। यह उन्नत एवियोनिक्स से सुसज्जित है और इसमें कई आधुनिक सुधार हुए हैं। गौरतलब है कि उन्होंने वैश्विक सुरक्षा की तस्वीर बदलने में अहम भूमिका निभाई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *