रोसमाह मंसूर कौन? लग्जरी लाइफ की शौकीन, 28 अरब रुपये का खरीदा सामान; पति भी रहे विवादों में

मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर से बड़ी खबर सामने आ रही है। पूर्व प्रधानमंत्री नजीब रजाक की पत्नी पर गंभीर आरोप लगे हैं. कहा जा रहा है कि रोसमाह मंसूर ने अवैध पैसों से करीब 346 मिलियन डॉलर (करीब 28 अरब रुपए) का लग्जरी सामान खरीदा है। इनमें से कुछ वस्तुएँ उन्हें उपहार स्वरूप भी दी गईं। जो कहीं न कहीं भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने वाली गतिविधियों का परिणाम है। एसआरसी इंटरनेशनल एसडीएन बीएचडी और 1मलेशिया डेवलपमेंट बीएचडी (1एमबीडी) जैसी प्रमुख कंपनियों ने उनके खिलाफ गंभीर आरोप लगाए हैं। इस मामले में 9 मई को केस दर्ज किया गया था. इसमें मांग की गई है कि मंसूर सभी विलासिता की वस्तुएं लौटाए या मुआवजे के तौर पर 34 करोड़ डॉलर का भुगतान करे।

मंसूर ने विलासिता के सामान की खरीद के लिए 11 में से 6 शिकायतकर्ताओं को यह राशि अलग से भुगतान की। 346 मिलियन अमेरिकी डॉलर का भुगतान करके 320 से अधिक लक्जरी आइटम खरीदे गए हैं। इसमें घड़ियाँ, बैग और आभूषण शामिल हैं।रिपोर्ट के मुताबिक, शबनम नारायणदास दासवानी को दूसरे प्रतिवादी के रूप में नामित किया गया है। आरोप है कि मंसूर के लिए उसकी ओर से सामान खरीदा गया था. एक अखबार ने सफाई दी कि उसने मंसूर के वकीलों से बात की है. जिन्होंने कहा है कि उन्हें केवल याचिका की प्रति मिली है। अभी तक कोई बयान जारी नहीं किया गया है.

छापेमारी के दौरान पुलिस ने करोड़ों रुपये का सामान जब्त किया.

आपको बता दें कि नजीब रजाक 2009 से 2018 तक मलेशिया की सत्ता पर थे. उनके पीएम रहने के दौरान उन पर गंभीर आरोप लगे थे. 1एमबीडी घोटाले में उनकी भूमिका सामने आने के बाद आम चुनाव में उनकी पार्टी को करारी हार का सामना करना पड़ा। उनकी पार्टी 1973 से लगातार 6 दशकों तक मलेशिया में सत्ता में रही। जिसके बाद उन्हें हार का सामना करना पड़ा. पुलिस ने उसके कई ठिकानों पर छापेमारी की. इस दौरान नजीब और उनकी पत्नी की करीब 232 मिलियन डॉलर (19215778996.15 रुपये) कीमत की लग्जरी चीजें जब्त कर ली गईं। हालांकि, पूर्व पीएम और उनकी पत्नी ने किसी भी घोटाले से इनकार किया है. लेकिन दोनों पर अभी भी भ्रष्टाचार के कई मामले चल रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *